Alankar in Hindi Vyakaran

Top

अलंकार = अलम + कार
Words that are used to decorate (अलंकृत) the poetry (काव्य) and prose (गद्य) are known as alankar (अलंकार). Alankar play a very important role in hindi grammar (हिंदी व्याकरण). The use  of alankar is important, but not necessary.
Types of Alankar (अलंकार के भेद)
There are two types of alankar.
शब्दालंकार और अर्थालंकार

शब्दालंकार: The alankar made of words are known as shabdalankar. They are:
(1) अनुप्रास अलंकार
When a word is repeated several times
For example:
चारू चन्द्र की चंचल किरणें, खेल रही है जल थल में
The letter cha (च) is repeated here.
(2) यमक अलंकार
When a word is repeated more than once and the meaning is different every time.
For example:
माला फेरत जुग भया, फिरा ना मन का फेर
कर का मनका डारि दे, मन का मनका फेर
Here, the word मनका has two meanings – मन, मोती
(3) श्लेष अलंकार
When one word can have different meanings
For example:
सुरवन को ढूँढत फिरत, कवि, व्यभिचारी, चोर 
Here, the word सुरवन has three different meanings for कवि, व्यभिचारी, चोर
अर्थालंकार: The alankar made of meanings of words.

Types of arthalakar are
(1) उपमा अलंकार
When a person or thing is compared with another person’s or thing’s nature, position, appearance and virtue. The words like जैसा, सा, सी, जस, सम, सरिस are seen in upma alankar.
For example
हाय! फूल सी कोमल बच्ची, हुई राख की ढ़ेरी
(2) रूपक अलंकार
जहाँ गुणों की समानता दर्शाने के लिए दो वस्तुओं को एक दुसरे का रूप मान लिया जाता है |
Example
मैया मैं तो चन्द्र खिलौना लैहों
Here, moon (चन्द्र) is considered as toy (खिलौना)
(2) उत्प्रेक्षा अलंकार
जहाँ उपमेय में उपमान की संभावना दर्शायी जाती है | The words like मानों, मनु, जनु, जानों, जनहु are used.
For instance
उस काल मारे क्रोध के तनु काँपने उनका लगा
मानों हवा के जोर से सोता हुआ सागर जगा
(3) अतिश्योक्ति अलंकार
When the explanation of a person or a thing is exaggerated
e.g.
आगे नदिया पड़ी अपार, घोडा कैसे उतरे पार
राणा ने देखा इस पार, तब तक चेतक था उस पार
(4) मानवीकरण अलंकार
When a non-living thing is compared with the actions and nature of living beings
e.g.
मेघ आए बड़े बन-ठन के
(5) अन्योक्ति अलंकार : उक्ति के माध्यम से किसी अन्य को कोई बात कही जाए | 
फूलों के आस-पास रहते हैं, फिर भी काँटे उदास रहते हैं



Examples


Few examples of different alankar are given below.
(1) अनुप्रास अलंकार
तरनि तनूजा तट तमाल तरुवर बहु छाये
(2) यमक अलंकार
काली घटा का घमंड घटा
(3) उपमा अलंकार
पीपर पात सरिस मन डोला
(4) अतिश्योक्ति अलंकार
हनुमान की पूंछ में लग न पाई आग
लंका सिगरी जल गए, गए निशाचर भाग
(5) रूपक अलंकार
चरण कमल बन्दों हरिराई
(6) मानवीकरण अलंकार
गेंहूँ के पौधे इस तरह झूम रहे थे
जैसे कोई नागिन अठखेलियाँ कर रही हो