Paryayvachi Shabd Hindi Vyakaran

Top

किसी शब्द के समानार्थी शब्द को पर्यायवाची (Paryayvachi | Plural)शब्द कहते है । The plural form of a word is the form that is used when referring to different kind of people or things.  

 शब्दपर्यायवाची शब्द 
 अंग शरीर ,तन,देह, हिस्सा,  भाग ,काया
 असुर दानव,राक्षस , दैत्य, निशाचर ,तमचर
 अंधकार अंधेरा,तम, तमस,अंधियारा
 अश्व घोडा, हय,तुरंग ,घोटक
 अलंकार गहना,जेवर,आभूषण
 अमृत सुधा,पियुष,सोम
 आग अग्नि, जलन,अनल,पावक,धूमकेतू 
 आकाश नभ, आसमान, गगन,अम्बर 
 आनंद सुख,हर्ष ,खुशी ,मोद,प्रमोद
 आँख नयन,नेत्र ,लोचन, चक्षू


Examples

Few more examples are given below:

आनंद -  सुख,हर्ष ,खुशी ,मोद,प्रमोद

आँख -नयन,नेत्र ,लोचन, चक्षू

आश्रम -कुटी,संघ,विहार ,मठ

इच्छा -कामना,मनिषा ,अभिलाषा । लालसा  

इन्द्र -देवराज, देवेन्द्र ,सुरेश, महेन्द्र ,शचिपती

ईश्वर -भगवान,देवता,परमात्मा,प्रभु

उपवन -बाग,उद्यान,बगीचा, वाटिका 

उग्र -तीव्र ,तेज,उत्कट

उचित - वाज़िब,ठीक , मुनासिब ,समुचित ,तर्कसंगत

उच्छृंकल -आवारा, निरंकुश मनमौजी

उजाला- उज्बल,प्रकाश

उत्तम-उत्कृष्ट ,उमदा,श्रेष्ठ ,बढ़िया

उत्पत्ति - उगम ,पैदाईश ,जन्म ,सृष्टी , आविर्भाव

उपाय -युक्ति , साधन, तरकीब ,प्रयत्न 

ऐक्य - एकत्व ,एकता

अोज- तेज

अोंठ -अधर,अोष्ठ

अौरत - स्त्री,नारी

केश- बाल, कुन्तल,अलक,कच

कमल-राजीव,पद्म ,पंकज,नीरज ,सरोज, शतदल

कबूयर- कपोत ,पारावत

कण्ठ -जला,गर्दन

किताब-पुस्तक ,पोथी

कपड़ा- वस्त्र ,वसन,परिधान

किसान- कृषक, खेतिहार ,हलधर

कृष्ण -गोपि।किशन,कन्हैया, घनश्याम,मोहन,केशव ,गिरधारी

कोयल-कोकिला,सारिका,कुहुकिनी ,वनप्रिया

खून-लहू,रक्त ,रुधिर

गज-हाथी , हस्ती

गंगा-मोदाकिनी,देवनदी,भगीरथी ,जान्हवी

गणेश -गजानन,विघ्नहर्ता,गौरीनंदन ,गणपति ,विनायक

गुरू -शिक्षक,अध्यापक ,आचार्य

घर-गृह,आलय,सदन,भवन,आवास,निकेतन,वास,निवास

घास- तृण,दूर्वा ,कुश

घी-अमृत,नवनीत,घृत

चरण-पॉव ,पैर,पाद ,पग

चाँद -चंद्रमा,रजनीनाथ ,शशि ,रजनीश,चन्द्र

चाँदी-रजत,रुपा ,रौप्य

छवि - साया, प्रतिबिंब

छानबीन-जाँच,पड़ताल,पूक्षताछ,शोध

जल-पानी,नीर,सलिल,अम्बु,तोय , पेय

जगत -जग,विश्व,संसार ,दुनिया

जंगल -वन,अरण्य,कानन 

झूठ -असत्य ,मिथ्या

तलवार - समशेर, असि,कृपाण

तालाब-सरोवर,पुष्कर,जलाशय

तीर-शर,बाण ,सर

दास-सेवक,चाकर,नौकर,अनुचर

दरिद्र-जरीब, दीन,रंक, निर्धन

दिन-दिवस,वार, दिवा

दूध-दुग्ध ,क्षीत,गौरस

दुष्ट -क्रूर,नीच,पापी ,खल,दुर्जन

दर्पण-आईना,शीशा 

धरती-धरा,वसुधा,ज़मीन,पृथ्वी,अवनी ,भूमि, अचला, धरणी

धन -दौलत,संपत्ती,संपदा

नदी- सरिता,तरंगिणी ,नटिनी ,दरिया,सारंग

पवन-हवा,वायु,समीर ,अनिल

पहाड़ -पर्वत,अचल,गिरी

पक्षी-पंछी,दविज ,खग,विहंग,नभचर ,पतंग

पत्नी -भार्या,वधू ,वामा,अरधांगिनी,सहचारिणी ,वनिता,दारा

पुत्र -बेटा,आत्मज,तनुज,सुत,तनय ,नंदन

फूल-कुसुम,पुष्प, सुमन,प्रसून

बादल-मेघ,घन,जलधर,जलद,वारिद

बंदर-कपि,वानर,हरि

बिजली-दामिनी,विद्युत,सौदामिनी ,चंपला,घनप्रिया

बहुत-अतीव,अति,बहुल,अपार,अमित,प्रचुर,अत्यंत

ब्राम्हण - द्विज ,विप्र,भूमिदेव

भय-ड़र,भीति

भँवरा -भ्रमर,भुंगा, मधुकर,मधुप

मानव-मनुष्य,आदमी ,पुरुष,मनुज,नर

मधु-शहद,मद,आसव ,मकरंद 

मछली-मत्स्य ,मीन,जलजीवन

माता-जननी,माँ ,जनयत्री

यम-सूर्यपुत्र, यमराज,अन्तक,कीनाश

रमा-इन्दिरा,लक्ष्मी,पद्मा,कमला,श्री ,हरिप्रिया

रात-रजनी ,रात्र ,निशा,यामिनी,यामा,विभावरी

राजा-नरेश,भूपाल,भूपति,नृप,नरपति

राम -सीतापति,दशरथनंदन, राघव,रघुपति ,रघुराज,जानकीवल्लभ

रावण-दशानन,लंकेश,लंकापति

लड़का- बालक।कुमार,शिशु,सुत ,किशोर

लड़की-बाला,कुमारी,सुता,किशोरी ,कन्या

विष - जहर,हलाहल,गरल

वृक्ष -तरु,पेड़ ,पादप,विटप

विशाल-बड़ा, महान,विराट 

बारिश-वर्षा,बरसात,वृष्टी , वर्षण

शिव-महादेव,भोलेनाथ,शंभू ,नीलकंठ , शंकर, त्रिलोचन

शत्रु -रिपु,दुश्मन,वैरी,अरि

शुभ्र -श्वेत,सफेद, गौर,अमल, शुक्ल

सीता-जानकी,वैदेही,जान्हवी, भूमिजा,रामप्रिया

साँप-भुजंग,अहि,सर्प,नाग

सूर्य-आदित्य,प्रभाकर, दिनकर,रवि,सूरज,भानु,भास्कर

सोना-कंचन,हेम,कनक,स्वर्ण

सिंह-शेर,वनराज,शार्दुल,केसरी ,मृगराज

सागर-समुद्र,सिंधु, पयोधि,नदीश,रत्नाकर

समीप-निकट,पास,आसन्न

समूह-दल,संघ ,समुदाय,झुंड ,टोली,वृंद

सुंदर-रम्य,ललाम,रुचिर,मनोहर,आकर्षक, सुहावना,सुहाना

स्त्री-नारी,कान्ता,वनिता,महिला,अौरत,ललना,कामिनी

सुगंध-सौरभ,महक,खुशबू 

स्वर्ग-देवलोक,सुरलोक ,परमधाम,दिव्यधाम

शारदा-सरस्वती,भारती,वीणापाणि ,वागेश्वरी

सहेली-सखी ,सजनी,सहचरी

हस्त-हाथ,कर,बाहु,भुजा,पाणि

हिमालय-हिमाचल,हिमगिरी,पर्वतराज

हनुमान-केसरीसुत,मारूती,पवनसुत,रामदूत,अंजनेय,अंजनीसुत,बजरंगबली,महावीर

हृदय-छाति,उर,वक्ष,हिय,दिल